93 F
India
Friday, May 7, 2021
Home टेक & ऑटो Koo एप में आया 'टॉक टू टाइप' फीचर, जानें इसकी खासियत

Koo एप में आया ‘टॉक टू टाइप’ फीचर, जानें इसकी खासियत


टेक डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली
Published by: प्रदीप पाण्डेय
Updated Tue, 04 May 2021 02:24 PM IST

सार

यह उनके लिए किसी वरदान से कम नहीं है जिन्हें अपनी स्थानीय भाषा में लिखने में मुश्किल का सामना करना पड़ता है

ख़बर सुनें

देसी माइक्रोब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म कू (Koo) ने अपने यूजर्स की सहूलियत के लिए टॉक टू टाइप फीचर को लॉन्च करने की घोषणा की है। टॉक टू टाइप फीचर की मदद से यूजर्स अपनी भाषा में बोलकर टाइप कर सकेंगे। कू का टॉक टू टाइप फीचर काफी हद तक वॉयस टाइपिंग जैसा है लेकिन इसकी खासियत यह है कि इसमें अधिकतर भारतीय भाषाओं का सपोर्ट दिया गया है।

कू टॉक टू टाइप की मदद से यूजर्स बोलकर अपनी क्षेत्रीय भाषा टाइप कर सकेंगे और कू पर उसे शेयर कर सकेंगे। यह उनके लिए किसी वरदान से कम नहीं है जिन्हें अपनी स्थानीय भाषा में लिखने में मुश्किल का सामना करना पड़ता है, हालांकि आपको बता दें कि कू का टॉक टू टाइप फीचर फिलहाल केवल मोबाइल एप वर्जन पर ही उपलब्ध है।

टॉक टू टाइप फीचर की लॉन्चिंग प कू के सह-संस्थापक, मयंक बिदावतका ने कहा, ‘कू के माध्यम से हम बहुत बड़े स्तर पर भारत को जोड़ना और एक अरब भारतीय आवाजों को अपनी मातृभाषा में स्वतंत्र रूप से खद को अभिव्यक्त करने में सक्षम बनाना चाहते हैं। हम उन सभी के लिए अभिव्यक्ति को सरल बनाते रहेंगे जो अपने दर्शकों और प्रशंसकों से जुड़ना चाहते हैं। लोगों को टाइपिंग के बिना क्रीएट करने में सक्षम बनाने वाली “टॉक टू टाइप” सुविधा को लॉन्च करने के लिए हम बहुत उत्साहित हैं। आपको बस एक बटन पर क्लिक करना है और अपने फोन में बोलना है और शब्द जादुई रूप से स्क्रीन पर दिखाई देने लगेंगे।’

बता दें कि कू को मार्च 2020 में ट्विटर की टक्कर में देसी माइक्रोब्लॉगिंग साइट के रूप में लॉन्च किया गया है। कू को भारत सरकार भी प्राथमिक सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के तौर पर इस्तेमाल कर रही है। भारत सरकार के तमाम मंत्री और मंत्रालयों के अकाउंट कू एप पर हैं।

विस्तार

देसी माइक्रोब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म कू (Koo) ने अपने यूजर्स की सहूलियत के लिए टॉक टू टाइप फीचर को लॉन्च करने की घोषणा की है। टॉक टू टाइप फीचर की मदद से यूजर्स अपनी भाषा में बोलकर टाइप कर सकेंगे। कू का टॉक टू टाइप फीचर काफी हद तक वॉयस टाइपिंग जैसा है लेकिन इसकी खासियत यह है कि इसमें अधिकतर भारतीय भाषाओं का सपोर्ट दिया गया है।

कू टॉक टू टाइप की मदद से यूजर्स बोलकर अपनी क्षेत्रीय भाषा टाइप कर सकेंगे और कू पर उसे शेयर कर सकेंगे। यह उनके लिए किसी वरदान से कम नहीं है जिन्हें अपनी स्थानीय भाषा में लिखने में मुश्किल का सामना करना पड़ता है, हालांकि आपको बता दें कि कू का टॉक टू टाइप फीचर फिलहाल केवल मोबाइल एप वर्जन पर ही उपलब्ध है।

टॉक टू टाइप फीचर की लॉन्चिंग प कू के सह-संस्थापक, मयंक बिदावतका ने कहा, ‘कू के माध्यम से हम बहुत बड़े स्तर पर भारत को जोड़ना और एक अरब भारतीय आवाजों को अपनी मातृभाषा में स्वतंत्र रूप से खद को अभिव्यक्त करने में सक्षम बनाना चाहते हैं। हम उन सभी के लिए अभिव्यक्ति को सरल बनाते रहेंगे जो अपने दर्शकों और प्रशंसकों से जुड़ना चाहते हैं। लोगों को टाइपिंग के बिना क्रीएट करने में सक्षम बनाने वाली “टॉक टू टाइप” सुविधा को लॉन्च करने के लिए हम बहुत उत्साहित हैं। आपको बस एक बटन पर क्लिक करना है और अपने फोन में बोलना है और शब्द जादुई रूप से स्क्रीन पर दिखाई देने लगेंगे।’

बता दें कि कू को मार्च 2020 में ट्विटर की टक्कर में देसी माइक्रोब्लॉगिंग साइट के रूप में लॉन्च किया गया है। कू को भारत सरकार भी प्राथमिक सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के तौर पर इस्तेमाल कर रही है। भारत सरकार के तमाम मंत्री और मंत्रालयों के अकाउंट कू एप पर हैं।



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

ना हरा, ना पीला, इस केले का रंग है नीला, आइसक्रीम जैसे स्वाद के साथ हैं 5 गजब के फायदे

BLUE JAVA:  हम लोग स्वस्थ रहने के लिए फलों का सेवन करते हैं. खासकर केला, ये एक ऐसा फल है जो आमतौर पर...

Recent Comments