102 F
India
Wednesday, May 5, 2021
Home देश मेहनत रंग लाई: डॉक्टर दंपती की तकनीक और रिटायर्ड वैज्ञानिक की मदद...

मेहनत रंग लाई: डॉक्टर दंपती की तकनीक और रिटायर्ड वैज्ञानिक की मदद से इंदौर के उद्योगपति ने आधी कीमत में बना दिया देशी वेंटिलेटर


  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Indore
  • With The Help Of The Doctor Couple’s Technology And A Retired Scientist, The Industrialist Of Indore Made A Domestic Ventilator For Half The Price.

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

इंदौर13 घंटे पहलेलेखक: संजय गुप्ता

  • कॉपी लिंक

इसका वजन मात्र दो किलो है, जिससे इसे कहीं भी ले जा सकते हैं।

  • 10 माह की मेहनत से 50 हजार में किया तैयार, केेंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने दी मंजूरी
  • सिलेंडर खत्म होने पर वातावरण से ऑक्सीजन लेकर मरीज को देगा

कोरोना के गंभीर मरीजों को आ रही वेंटिलेटर की समस्या को देखते हुए शहर के एक उद्योगपति ने आधी कीमत में देसी वेंटिलेटर बना लिया है। विदेश से लौटे डॉक्टर दंपती की तकनीक और कैट के रिटायर्ड सांइटिस्ट की मदद से यह हो सका है। उनके वेंटिलेटर को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने मंजूरी दे दी है। पोलोग्राउंड में साईं प्रसाद उद्योग के संचालक संजय पटवर्धन ने बताया कि नान इन्वेजिव टाइप का वेंटिलेटर 10 माह में तैयार हुआ है।

इसकी कीमत करीब 50 हजार है, जबकि विदेशी वेंटिलेटर एक- डेढ़ लाख में मिलते हैं। यह कम ऑक्सीजन फ्लो में भी सपोर्ट करता है। सिलेंडर में ऑक्सीजन खत्म होने पर तीन-चार घंटे वातावरण से ऑक्सीजन लेकर मरीज को दे सकेगा। मरीज को कहीं शिफ्ट करना हो या फिर छोटी जगहों पर मरीज गंभीर हो जाए और संक्रमण 50-60 फीसदी हो तो ऐसी स्थिति में यह जिंदगी बचा सकता है। इसका वजन दो किलो है, जिससे इसे आसानी से कहीं भी ले जा सकते हैं।

यूरोपीय मानकों के अनुसार बना है
पटवर्धन बताते हैं कि डॉ. एसके भंडारी और उनकी पत्नी डॉ. पूर्णिमा के पास इसकी तकनीक थी। कैट के रिटायर वैज्ञानिक अनिल थिप्से ने मदद की। मेडिकल उपकरण के लिए जरूरी लाइसेंस लेने, यूरोप के मानक के अनुसार बनाने के लिए पार्ट्स अमेरिका, मुंबई आदि जगह से बुलाए। टेस्टिंग, रजिस्ट्रेशन आदि में भी काफी समय लगा।
वेंटिलेटर की जरूरत इसलिए पड़ती है
वेंटिलेटर तब उपयोग में आता है, जब मरीज खुद सांस नहीं ले पाता। वेंटिलेटर दो तरह के होते हैं। पहला – इन्वेजिव, जिसमें लंग्स तक पाइपलाइन जाती है। दूसरा- नाॅन इन्वेजिव, जिसमें नाक में पाइपलाइन जाती है। मरीज के लंग्स चलते हैं।

खबरें और भी हैं…



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

हवा में पैर लहराते हुए नोरा फतेही ने यूं दिया पोज कि लोग बोले- ‘नाच मेरी रानी रानी…’

हवा में पैर लहराते हुए नोरा फतेही ने यूं दिया पोज कि लोग बोले- 'नाच मेरी रानी रानी...' Source link

उत्तर प्रदेश में बड़ा हादसा: लखनऊ के ऑक्सीजन प्लांट में ब्लास्ट, 2 लोगों की मौत; कई कर्मचारी अभी भी अंदर फंसे

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐपलखनऊ6 मिनट पहलेकॉपी लिंकलखनऊ में देवा रोड पर स्थित केटी...

कोरोना का कहर: रश्मि रॉकेट के एडिटर अजय शर्मा की मौत, दस दिन पहले ऑक्सीजन और बेड के लिए जूझ रहे थे

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप2 मिनट पहलेकोरोना वायरस संक्रमण की दूसरी लहर से पूरा...

Chittorgarh News: गर्मी के चलते Bhainsrorgarh Wildlife Sanctuary में पानी की कमी

Chittorgarh: कोरोना काल में लागू जन अनुशासन पखवाड़े (Public discipline fortnight) के बीच एकाएक गर्मी के मौसम में बढ़ते तापमान बढ़ने लगा है....

Recent Comments